Crime Sach News

Just another WordPress site

पुराने कनेक्शन पर नए मीटर लगाने का लिया जा रहा है रुपया

1 min read

ठूठीबारी, महराजगंज
उत्तर प्रदेश सरकामर द्वारा सभी घरों को मीटर देने की योजना के तहतपिछले हफ्ते से जक्सन कंपनी द्वारा पुराने कनेक्शन पर नए मीटर लगाने का कार्य किसी ठेकेदार को दिया है जिसमें ठेकेदार ने एक हफ्ते में ठूठीबारी के दो मोहल्लों में लगभग दो दर्जन से ऊपर पुराने कनेक्शन मीटर लगाया है। लेकिन उन मिटरों के साथ न तो केबल दिया जा रहा है ,और मीटर के नाम पर ठेकेदार के लड़के सो रुपए से लेकर 300 रु तक की अवैध वसूली कर रहै हैं। जबकि शासन द्वारा यह आदेशित है कि किसी भी कनेक्शन पर मीटर लगाने को लेकर कोई भी शुल्क किसी के द्वारा नहीं लिया जाएगा लेकिन ठूठीबारी में जक्सन कंपनी के ठेकेदार द्वारा जो भी मीटर लगवाया गया है उन घरों उपभोक्ताओ से व जिन घरों में महिलाएं है उनसे 100 से200 व 300सौ रुपए तक की वसूली की गई है, और उसके बाद जो मीटर के साथ 25 मीटर तक का केबल तार मिलना था वह भी ठेकेदार द्वारा उपभोक्ताओं को नहीं दिया गया ।जब इस बारे में जानकारी ली गई तो उन घरों की मीना देवी, नर्मदा देवी, बेचनी, आशा देवी सुनीता देवी , हरिवंश, मालती, रमजान ,मुस्तफा , अशोक कुमार, बाल्मिकी, परशुराम, बिजई व जोगिंदर निगम में बताया कि हम सभी से मीटर के नाम पर सौ रुपए 200 और 300 रुपए की वसूली की गई है और ना ही हमको एक मीटर तार भी नही दिया गया ।हम लोगों ने जो खराब था खरीद कर ला कर दिया तो हम लोगों का तार लगाया।
बताते चले कि उत्तर प्रदेश सरकार के बिजली विभाग द्वारा बिजली चोरी को लेकर हर घर में मीटर देने की योजना बनाई है। जिन के घरों में पहले कनेक्शन नहीं था उनको प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना के तहत बिजली कनेक्शन सरकार द्वारा निःशुल्क दिए जाते थे ।आज पुराने कनेक्शन पर मीटर लगाने को लेकर ठेकेदारों द्वारा खुलेआम लूट की जा रही है, और सरकार को बदनाम किया जा रहा है एक तरफ जनता योगी सरकार को मोदी सरकार को गरीबों का मसीहा मानती है, दूसरी तरफ उसी सरकार से निशुल्क दिए जाने वाले कार्यों को लेकर क्षेत्र में उतरने वाले ठेकेदार मनमानी धन से जनता का शोषण अवैध तरीके धन लेकर किया जा रहा है। फिर सरकार के द्वारा चलाई जा रही योजनाओं में निशुल्क की पारदर्शिता इन ठेकेदार और कंपनियों के माध्यम से तार तार की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Categories

You may have missed